उज्जैन जिला पुलिस अधीक्षक की निगाह में चढ़े 20 शांति के दुश्मन पुलिस कप्तान ने प्रत्येक पुलिस थाने से मांगे 20-20 गुडों के नाम

Spread the love
354 Views

उज्जैन जिला पुलिस अधीक्षक की निगाह में चढ़े 20 शांति के दुश्मन

पुलिस कप्तान ने प्रत्येक पुलिस थाने से मांगे 20-20 गुडों के नाम

हिन्दुस्थान समाचार एजेंसी

– *कैलाश सनोलिया*

नागदा, 30 जुलाई हिंस। उज्जैन जिला पुलिस अधीक्षक मनीषसिंह की पेनी निगाहों में 20 शांति के दुश्मन चढे हुए हैं। इन शातिर गुडोंं की अब खेर नहीं है। इन बदमाशों की सूची पुलिस कप्तान ने स्वयं बनाई है।
इतना ही नहीं जिले के प्रत्येक पुलिस थानों से 20- 20 गुडों के नाम भी शांति के दुश्मनों के मांगे गए है। यह खुलासा जिला पुलिस अधीक्षक ने गुरूवार को नागदा में किया। एसपी यहाँ एक लूट का खुलासा करने आए थे।
प्रेसवार्ता में हिंदुस्थान समाचार संवाददाता के एक सवाल पर पुलिस कप्तान ने उक्त बातो का रहस्योदघाटन किया।
उन्होंने बताया मप्र सरकार के एक अभियान के तहत उज्जैन जिले में भी गुंडा अभियान चलाया जा रहा है। उनसे जब इस संवाददाता ने पूछा कि जिले में अभी तक कितने गुडों को चिन्हित किया गया है। इसके प्रत्युतर में एसपी बोले, स्वयं ने 20 गुडों की एक लिस्ट तैयार की है। यह सूची जिले भर से मांगे गए नामों के अलावा अलग भी हो सकती है,संभव है कुछ नाम आपस में सामंजस्य रखते हो।

1 जुलाई के बाद तीन श्रेणियों में 129 गुडों के
नाम

उनका यह भी कहना थाकि जुलाई के बाद विभिन्न अपराधों से जुड़े कुल 129 गुडों के नाम समाने आए है। जिसमें 36 नाम रासूका, 54 जिला बदर तथा 39 नाम वे लोग है, जिन पर ईनाम घोषित है। प्रेस वार्ता में हिंदुस्थान समाचार के सवाल पर उन्होंने खुलासा किया की यह बात सत्य हैकि आज के परिवेश में आई तकनीकी क्रांति से अपराधियों ने अपराध की नई-नई तकनीकी इजाद कर ली है। अपराध करने में ये साधन उपयोग हो रहे है, तो उज्जैन की पुलिस ने भी इस से निपटने के लिए नई कार्यप्रणाली का अपनाया है। खुफि या एजेंसी का जाल बिछा रखा है। साइबर सेल की टीम का जुटाया गया है। आधुनिक सूचना तंत्र का जाल बिछाया गया है। अपराधी जिस तरह से टैक् नोलाजी के माध्यम से अपराध करने में आगे बढ़ रहे है, पुलिस ने इस संस्कृति को समझकर अपराध पर अंकुश लगाने का रास्ता अपनाया है। तकनीकी के इस युग में पुलिस भी अब अपडेट कर जनता का विश्वास कायम करने में सफ ल हो रही है। इस मौके पर एएसपी आकाश भूरिया, सीएसपी मनोज रत्नाकर, थाना प्रभारी श्यामसुंदर शर्मा भी मौजूद थे।

शासन को भेजा प्रस्ताव

एक प्रश्न के सवाल पर आपने ने कहा सीसी टीवी कैमरों की आज आचश्यकता है। शहरों में लगाना जाना चाहिए। स्वयं दुकानदार भी इसका उपयोग करें। इसके अलावा मप्र शासन के समक्ष भी जिला कार्यालय से उक्त प्रोजेक्ट के लिए प्रस्ताव भेजा गया है। इस मौके पर शहर में मादक एवं नशीले पदार्थ की ब्रिकी की धड़ल्ले से बिक्री के सवाल पर उन्होंने मीडिया का आश्वस्त किया हैकि इस अपराध पर भी अंकुश लगाया जाएगा।
हिंदुस्थान समाचार/ कैलाश सनोलिया

Total word Count : 473 word(s) || Total Character Count : 2766 character(s)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed