शिक्षा, संस्कार, संस्कृति अमूल्य धरोहर है-प्रतीकसागरजी महाराज बच्चो को शिक्षा के साथ संस्कार देना भी जरूरी है।

Spread the love
157 Views

शिक्षा, संस्कार, संस्कृति अमूल्य धरोहर है-प्रतीकसागरजी महाराज
बच्चो को शिक्षा के साथ संस्कार देना भी जरूरी है।

नागदा(निप्र) – किरण टॉकिज चौराहे पर चल रहे तीन दिवसीय सर्व धर्म संत्सग महोत्सव के दूसरे दिन क्रान्तिकारी संत मुनिश्री 108 श्री प्रतीकसागर जी महाराज ने शिक्षा, संस्कार एवं संस्कृति पर जोर देते हुए धर्मसभा को संबोधित किया। वर्तमान समय में परिवारों में जो परिस्थितियां बन रही है उन पर अपने क्रान्तिकारी प्रवचनों के माध्यम से समाज को एक नई दिशा देने का प्रयास किया है। संतश्री ने धर्मसभा में कहा कि आज के इस युग में शिक्षा जरूरी है पर शिक्षा के साथ संस्कार भी जरूरी है। जहाँ संस्कार है वहीं संस्कृति भी जरूरी हैं। मैं उच्च शिक्षा का विरोधी नहीं हूँ लेकिन आज वर्तमान में बच्चो को शिक्षा दी जा रही है वहां संस्कार देना भी जरूरी हैं। क्रान्तिकारी प्रवचनों के माध्यम से संतश्री ने प्रहार करते हुए आज के परिवार को समझाया कि वर्तमान में शिक्षा तो दो लेकिन साथ ही संस्कार का ज्ञान भी उन्हें कराया जाय।
कार्यक्रम का शुभारम्भ श्रीमती प्रतिभा कुंवर ने मंगलाचरण से किया। तत्पश्चात् दीप प्रज्वलन दिगंबर जैन समाज अध्यक्ष सुनील जैन, अशोक जैन, नंदकिशोर पोरवाल, राजेश सकलेचा, दीपक जैन, पराग जैन, मनीष चपलोत ने किया। इसके पश्चात महाराज का पाद पक्षालन का लाभ डॉ. अरूण नीरज जैन, चन्द्रशेखर जैन, डॉ. दीपक जैन, संजय जैन ने लिया। इसके पश्चात् आचार्यश्री एवं मुनिश्री को शास्त्र भेंट किया गया इसका लाभ महावीर मोदी, सचिन बड़जात्या, महेन्द्रजी मनोज जी जैन, नवीन विरोले ने लिया। साथ ही समाज के वरिष्ठ गणमान्यजनों ने श्रीफल भेंट कर आशीर्वाद प्राप्त किया।
इस मौके पर धर्मसभा में उपस्थित नागदा-खाचरौद क्षेत्र के विधायक श्री दिलीपसिंह गुर्जर का सम्मान श्री दिगंबर जैन श्रीसंघ द्वारा किया गया। श्री गुर्जर ने महाराजश्री से आशीर्वाद प्राप्त किया।
आचार्यश्री पुष्पदंतसागरजी महाराज की प्रेरणा से पुष्पगिरी तीर्थ पर तीन करोड़ रूपये की लागत से पांच एकड़ भूमि पर आधुनिक यंत्रो से सुसज्जित गौशाला का भूमिपुजन एवं शिलान्यास दिनांक 21 मार्च रविवार को मुनिश्री प्रतीकसागरजी महाराज के सानिध्य में होने जा रहा है। जिसमें देश-प्रदेश के कई प्रतिनिधि एवं समाजजन उपस्थित रहेंगे।
गुरूवार को प्रवचन के समापन सत्र में अधिक से अधिक संख्या में पधारकर धर्म जागरण का परिचय देने की अपील सकल जैन श्रीसंघ द्वारा की गई।
कार्यक्रम का संचालन मनोज वागरेचा ने किया एवं आभार सुरेश जैन वकील सा. ने माना। कार्यक्रम में एस.पी जैन, अनिल लुहाडिया, अनुप जैन, नितिन जैन, भुपेन्द्र जैन, अभय बोहरा, राजेश धाकड़, मनीष धाकड़, राहुल चौरड़िया, दीपक गांग, हर्षित नागदा, चन्द्रशेखर नागदा, अमित बम, मुकेश बोहरा, राजेन्द्र कांठेड़, हेमन्त कांकरिया, प्रकाश जैन सांवरेवाला का सहयोग रहा। यह जानकारी शरद जैन गबुल द्वारा दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed