प्रभु जन्मे, मंगल गीत गुन्जे, नागदा श्रीसंघ मे जन्मवाचन महोत्सव

Spread the love

श्री श्वे. मूर्तिपूजक जैन श्रीसंघ, नागदा जं. एवं
आत्मोद्धार चातुर्मास समिति 2021

प्रभु जन्मे, मंगल गीत गुन्जे
चैत्र सुदी तेरस का दिन उस समय, उस काल में धरती धन्य धान से परिपूर्ण थी, पक्षी चारों ओर जय घोष कर थे, मंद – मंद सुगन्धीत हवा चली रही थी, सात ग्रह अपनी स्वराशी में होने के साथ उच्च स्थिति में विराजमान थे। उस समय उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में त्रिशला महारानी ने सर्व दुख रहित ऐसे तीन ज्ञान से परिपूर्ण भगवान महावीर स्वामी को जन्म दिया। जैसे ही यह पक्ति मुनिश्री चन्द्रयशविजयजी मसा ने उद्घोष की उपस्थित जनसमुदाय खुशियां से झुम उठा। यह नजारा था मंगलवार दोपहर 2.25 बजे का। मौका था पर्यूषण पर्व के पांचवे दिन वीर जन्म वांचन महोत्सव का। जन्म वांचन महोत्सव के मौके पर श्रीसंघ में दिनभर धार्मिक कार्यक्रम का दौर जारी रहा।
पाठशाला भवन
लक्ष्मीबाई मार्ग स्थित पाठशाला भवन में महावीर जन्म वांचन महोत्सव की शुरूआत मंगलवार सुबह 9 बजे मुनिश्री की मंगलाचरण से हुई। मंगलाचरण के पश्चात मुनिश्री ने धर्मसभा के माध्यम से भगवान महावीर स्वामी की माता त्रिशला रानी ने गर्भावस्था में जो 14 स्वपन देखे थे। उनकी महिमा का गुणगान किया। सुबह 10 बजे मुनिद्वय की निश्रा में वीर जन्म वांचन की जाजम बिछाने का विधान किया गया। जाजम श्रीसंघ पदाधिकारी एवं पाठशाला भवन ट्रस्ट्रीयों द्वारा बिछाई गई। महोत्सव में मुनिम बनने का लाभ सरदारमल विमलचन्द्र नागदा परिवार ने लिया। इसके पश्चात 14 स्वपनजी के दर्शन करवाने की बोली का आयोजन किया गया। 14 स्वपनजी में सर्वाधिक बोली चौथे स्वपन लक्ष्मी की लगी। जिसका लाभ यंशवत कुमार आयुषकुमार वागरेचा परिवार ने लिया। वहीं आयोजन का मुख्य पालनाजी बोली का लाभ दाखाबाई माणकलाल बोहरा परिवार ने लिया। 5 घंटे तक चले वीर जन्म वांचन महोत्सव को चन्द्रप्रभु भक्ति मंडल के सोनव वागरेचा, आशीष चौधरी, चन्द्रप्रकाश नागदा, आयुष बोहरा, सुरेश नाहटा ने संगीतमय कर दिया। मुनिश्री चन्द्रयशविजयजी मसा ने दोपहर 2.25 मिनट पर वीरजन्म पन्ने का वांचन किया। मुनिश्री ने जैसे भगवान महावीर स्वामी की जय बोली उपस्थित श्रद्धालूओं ने पालनाजी पर केशरिया चावल अर्पित कर जन्म महोत्सव की खुशिया मनाई। मुनिद्वय को जन्म का पन्ने वैहारने एवं प्रभावना का लाभ संजयकुमार मनोहरलाल वागरेचा परिवार ने लिया। जन्मवांचन महोत्सव के पश्चात प्रथम आरती का लाभ सुशीलकुमार राजेन्द्रकुमार हिंगड़, मंगल दिपक का लाभ राजेशकुमार आदित्यकुमार कोठारी, गौतमस्वामी जी की आरती का लाभ अभयकुमार विभोरकुमार चौपड़ा, राजेन्द्रसूरी गुरूदेव की आरती का लाभ सुरेन्द्रकुमार नरेन्द्रकुमार संचेती परिवार ने लिया। कार्यक्रम का संचालन श्रीसंघ के पूर्व अध्यक्ष सुनील वागरेचा ने किया। कार्यक्रम में पाठशाला भवन में सेवाप्रदान करने वाले दुर्गाप्रसाद सेन एवं धार्मिक पाठशाला की शिक्षिका कोमल बेन चौधरी का ट्रस्ट मंडल एवं श्रीसंघ पदाधिकारीयों द्वारा बहुमान किया गया। जन्म वांचन के पश्चात मूर्तिपूजक जैन श्रीसंघ के स्वामीवात्सलय का गोपाल गोशाला परिसर में किया गया।

चन्द्रप्रभु जैन मंदिर
प्रतिवर्ष महात्मा गांधी मार्ग स्थित चन्द्रप्रभु जैन मंदिर परिसर में आयोजित होने वाला वीरजन्म वांचन महोत्सव का आयोजन पाठशाला भवन में मुनिद्वय की निश्रा में मंगलवार दोपहर 3.30 बजे आयोजित किया गया। इस दौरान मंदिरजी संबंधी अष्ठप्रकारी पूजन, जन्म वांचन के पश्चात प्रथम आरती, मंगल दिपक, गौतम स्वामीजी की आरती, राजेन्द्रसूरीजी की आरती इत्यादि के चढ़ावे का आयोजन किया गया। स्थानीय चन्द्रप्रभु संगीत मंडल के कलाकारों ने जन्म वांचन महोत्सव को संगीतमय कर दिया। इस दौरान मंदिरजी में सेवाप्रदानकर्ता गणेश भट्ट का ट्रस्ट मंडल एवं श्रीसंघ पदाधिकारीयों द्वारा बहुमान किया गया। जन्म वांचन के पश्चात मूर्तिपूजक जैन श्रीसंघ के स्वामीवात्सलय का आयोजन गोपाल गोशाला परिसर में किया गया।
देर रात तक अंगरचना निहारते रहे श्रद्धालू
जन्म वांचन के महोत्सव पर महात्मा गांधी मार्ग स्थित चन्द्रप्रभु जैन मंदिर में आर्कषक अंगरचना की गई। जिससे निहारने के लिए देर रात तक श्रद्धालू का मंदिर में आवगमण का दौर जारी था। सोमवार रात 10.30 बजे शुरू की गई अंगरचना का कार्य मंगलवार दोपहर 4 बजे पूर्ण हुआ। अंगरचना के दौरान श्रीसंघ के मंयक कांकरिया, शुभम कटलेचा, अंकित कांकरिया, मंयक कोचर, निर्मल छोरिया, अभिषेक कोलन, ऋषभ सालेचा व्होरा, शुभम वागरेचा, प्रथम भंसाली, दिव्यांश छोरिया, अमन छोरिया, उमंग मुरड़िया, शुभम धोका, सुमित बाबेल, चेतन्य कांकरिया, लक्की सालेचा व्होरा आदि का सराहनीय योगदान रहा।
आज (बुधवार को) जैन कालोनी में वीर जन्म वांचन महोत्सव
पर्यूषण पर्व के छठे दिन बुधवार सुबह 9 बजे मुनिश्री चन्द्रयशविजयजी मसा एवं मुनिश्री जिनभद्रविजयजी मसा की निश्रा में जैन कालोनी स्थित शांतिनाथ राजेन्द्रसूरी जैन ज्ञान मंदिर में वीर जन्मवांचन महोत्सव का आयोजन होगा। मीडिया प्रभारी डॉ. विपिन वागरेचा ने बताया कि जन्म वांचन महोत्सव के दौरान मंदिरजी के अष्ठाप्रकारी पूजन, 14 स्वपन, पालना जी एवं जन्म वांचन के पश्चात प्रथम आरती आदि के चढ़ावे का आयोजन होगा।
फोटो केप्शन –
01 चांदी के पालनाजी के साथ लाभार्थी परिवार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed